fbpx

वाशिंग मशीन में डाल दें ये पेन किलर, फिर देखिए ‘जादू’, नए जैसे चमकेंगे सफेद कपड़े, भूल जाएंगे डिटर्जेंट!

वाशिंग मशीन में डाल दें ये पेन किलर, फिर देखिए ‘जादू’, नए जैसे चमकेंगे सफेद कपड़े, भूल जाएंगे डिटर्जेंट!

कौन नहीं चाहता है कि पुराने कपड़े ऐसे धुल जाए कि नए जैसे लगने लगे. बहुत कम लोग अब ऐसे हैं जो हाथ से कपड़े धोते होंगे या धोना चाहते हैं. खासतौर पर शहरों में लोगों के पास समय कम होता है, इसलिए सभी के घरों में वाशिंग मशीन होना आम बात हो गई है. वाशिंग मशीन में कपड़े अच्छे से धुल जाएं, इसलिए हम अच्छा और महंगा डिटर्जेंस खरीदते हैं. महंगे से महंगा और सस्ते से सस्ता साबुन भी ये दावा करता है कि वह कपड़ों की सारी गंदगी निकाल देगा.

लेकिन जब बात सफेद कपड़ों की आती है तो बहुत कम ही ऐसे डिटर्जेंट होते हैं जो कमाल कर पाते हैं. वैसे तो वाशिंग मशीन में सफेद कपड़ों को अलग से भी धोने के लिए डाला जाता है ताकि सफेदी में जान आ जाए लेकिन कई बार रिजल्ट हमें नाखुश कर देता है.

ये भी पढ़ें-फोन पर क्यों नहीं लगाना चाहिए कवर? सालों से चलाने वाले भी नहीं जानते नुकसान, पता चला तो निकाल फेकेंगे

इसलिए आज हम आपको एक ऐसे जुगाड़ के बारे में बता रहे हैं जिससे कि आपके सफेद कपड़ें एकदम चमचमा उठेंगे. दरअसल कपड़ों की सफेदी के लिए काम आती है एक दवाई. जी हां, चौंकने वाली बात ही है.

सब जानते हैं कि दवाई का इस्तेमाल लोग बीमार होने पर करते हैं, लेकिन एक दवा ऐसी भी है जो कपड़ों को चमकाने में भी मदद करती है. यहां हम बात कर रहे हैं एस्पिरिन (Aspirin) की. इसके लिए आपको 5 एस्पिरिन टैबलेट की ज़रूरत होगी जो कि ये एक लगभग 325 मिलग्राम की होगी.

ये भी पढ़ें- लंबा क्यों नहीं होता चार्जर का तार? खास है मकसद या जानबूझ कर खेल करती हैं कंपनियां, 90% अनजान

कैसे इस्तेमाल किया जाए एस्पिरिन?
टैबलेट को घुलने के लिए एक बड़े कटोरे या गर्म पानी में रखें. इस एस्पिरिन पानी को तब तक हिलाएं जब तक कि सभी टैबलेट पूरी तरह से घुल न जाएं. यह सुनिश्चित करने के लिए कि टैबलेट तेजी से घुलें, आप उन्हें पानी में डालने से पहले टुकड़ों में भी तोड़ सकते हैं.

इसके बाद आप इस घोल को वाशिंग मशीन में डाल दें जिसमें आपने सफेद कपड़े डाले हुए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि ये प्रोसेसर ज़्यादा अच्छे से तभी काम करेगा जब आप कपड़ों तो सोक यानी कि 8 घंटे तक भिगो देंगे.

हालांकि कुछ रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि सादे पानी की तुलना में एस्पिरिन कपड़े धोने में बेहतर है, लेकिन यह ब्लीच जितना प्रभावी नहीं होता है. कुछ रिपोर्ट से भी कहती हैं कि कपड़े में सफेदी एस्पिरिन की वजह से नहीं बल्कि गर्म पानी में 8 घंटे भिगे रहने की वजह से होती है, और लोगों को लगता है कि ऐसा एस्पिरिन की वजह से हुआ है.

Tags: Tech Knowledge, Tech news, Tech news hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *